Tag Archives: Love peom for her

इंतज़ार के सिवा क्या करता 

 Hindi love poem intzaar



Hindi love poem Intzaar ke siva kya karta

 

 

 

 

 

 

एक आरजू के सिवा क्या करता

ये दिल तुम्हे चाहने के सिवा क्या  करता

Continue reading

Bewajah si Mohabbat – Love poem

Love Images Love poem

Bewajah si Mohabbat – Love poem

तेरे लब खामोश थे  , मेरे लब भी कुश कह न सके
कहने आये थे दिल की बात
पर जुबा पे ला न सके
इंतज़ार था तुम्हें मेरे इज़हार का
और मुझे तेरे इज़हार का
खामोशियो के सिलसिले
यु ही बढ़ने लगे
जो बात न कह पाए हम
आँखों के इशारे सब कहने
कम होने लगा बोझ दिल का
आँखो से सब राज़ खुलने लगे
कोई वजह न थी पास आने की
एक बेवजह सी मोहब्बत थी एक
जो हम करने लगे
जीने की वजह कहकर जीने लगे

Read More ….