इंतज़ार के सिवा क्या करता 

 Hindi love poem intzaar



Hindi love poem Intzaar ke siva kya karta

 

 

 

 

 

 

एक आरजू के सिवा क्या करता

ये दिल तुम्हे चाहने के सिवा क्या  करता

सजदे में झुक गया सर जब

तेरी इबादत के सिवा क्या करता

चंद लम्हों की मुलाकात में

मुकम्मल खुद को कितना करता

जुदा होके तूमसे

खुद को समझाया क्या करता

सब्र है तेरे प्यार का

थोड़ी बेसब्री भी है

आई न तू जब

इंतज़ार के सिवा क्या करता 



Read More :

हर मोड़ पर दिल थाम  चल रहा हु

Heart touching love poem -Aakhri sas tak tera intzaar

Best Hindi Love Poem , Collection of Hindi Poetry

Very sad love poem in hindi font

Zindagi ka safar – Hindi motivational poem

(Visited 32 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *